माघ गुप्त नवरात्रि 2017

माघ गुप्त नवरात्रि 2017 प्रत्येक वर्ष आने वाले दो नवरात्रों से तो आप सभी लोग परिचित हैं लेकिन इनके अलावा प्रत्येक वर्ष दो और नवरात्री होती हैं जिन्हें गुप्त नवरात्री कहा जाता है। पूर्व काल में इनका ज्ञान केवल उच्च कोटि के साधकों को होता था जो इस समय का उपयोग विशिष्ट...

read more

गुप्त नवरात्र 28 से, इन 9 दिनों में होती हैं गुप्त साधनाएं I

गुप्त नवरात्र 28 से, इन 9 दिनों में होती हैं गुप्त साधनाएं - 🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹 एक वर्ष में चार नवरात्र होते है, लेकिन आमजन केवल दो नवरात्रि (चैत्र व शारदीय नवरात्रि) के बारे में ही जानते हैं. इनके अलावा माघ व आषाढ़ मास में भी नवरात्रि का पर्व गुप्त रूप से मनाया जाता है. इसलिए...

read more

यज्ञपात्र

यज्ञपात्र यज्ञ-पात्र (श्री पं. दौलत राम जी) श्रौत-स्मार्त यज्ञों में विविध प्रयोजनों के लिये विभिन्न यज्ञ पात्रों की आवश्यकता होती है। जिस प्रकार कुँड मंडप आदि को विधि पूर्वक निर्धारित माप के अनुसार बनाया जाता है, उसी प्रकार इन यज्ञ पात्रों को निश्चित वृक्षों के काष्ठ...

read more

मकान की नींव में सर्प और कलश क्यों गाड़ा जाता है ?

*मकान की नींव में सर्प और कलश क्यों गाड़ा जाता है?* ऐसा माना जाता है कि जमीन के नीचे पाताल लोक है और इसके स्वामी शेषनाग हैं। पौराणिक ग्रंथों में शेषनाग के फण पर पृथ्वी टिकी होने का उल्लेख मिलता इन परमदेव ने विश्वरूप अनंत नामक देवस्वरूप शेषनाग को पैदा किया, जो पहाड़ों...

read more

ईस्वी सन 2017 में विवाह के मुहूर्त

शुभ कार्य होंगे प्रारंभ 14 जनवरी 2017 को सूर्य के उत्तरायण होने एवं मकर संक्रांति के साथ ही शुभ कार्यों पर लगी रोक भी हट जाएगी। इस महायोग के बाद विवाह सहित सभी प्रकार के शुभ कार्य कराए जा सकेंगे। मकर सक्रांति एवं उत्तरायण के महायोग से शुभ कार्यों पर लगी रोक हट जाएगी।...

read more

बारह राशियों के अनुसार राशिफल

मेष- चू, चे, चो, ला, ली, लू, ले, लो, आ राशि स्वरूप: मेंढा जैसा, राशि स्वामी- मंगल। 1. राशि चक्र की सबसे प्रथम राशि मेष है। जिसके स्वामी मंगल है। धातु संज्ञक यह राशि चर (चलित) स्वभाव की होती है। राशि का प्रतीक मेढ़ा संघर्ष का परिचायक है। 2. मेष राशि वाले आकर्षक होते...

read more

सौर मंडल के सभी ग्रह – सामान्य ज्ञान प्रश्नोत्तरी- भाग -1

सौर मंडल के सभी ग्रह – सामान्य ज्ञान प्रश्नोत्तरी- भाग -1 ● सौरमंडल में कुल कितने ग्रह हैं — 8 ● सूर्य के चारों ओर घूमने वाले पिंड को क्या कहते हैं — ग्रह ● किसी ग्रह के चारों ओर घूमने वाले पिंड को क्या कहते हैं — उपग्रह ● ग्रहों की गति के नियम का पता किसने लगाया —...

read more

ईशादि १०८ उपनिषदों की सूची

ईशादि १०८ उपनिषदों की सूची - १.ईश = शुक्ल यजुर्वेद, मुख्य उपनिषद् २.केन उपनिषद् = साम वेद, मुख्य उपनिषद् ३.कठ उपनिषद् = कृष्ण यजुर्वेद, मुख्य उपनिषद् ४.प्रश्‍न उपनिषद् = अथर्व वेद, मुख्य उपनिषद् ५.मुण्डक उपनिषद् = अथर्व वेद, मुख्य उपनिषद् ६.माण्डुक्य उपनिषद् = अथर्व...

read more

हनुमान चालीसा

हनुमान चालीसा में एक श्लोक है: - जुग (युग) सहस्त्र जोजन (योजन) पर भानु | लील्यो ताहि मधुर फल जानू || अर्थात हनुमानजी ने एक युग सहस्त्र योजन दूरी पर स्थित भानु अर्थात सूर्य को मीठा फल समझ के खा लिया था | 1 युग = 12000 वर्ष 1 सहस्त्र = 1000 1 योजन = 8 मील युग x सहस्त्र...

read more

श्रीमद्भागवतम में कलियुग का वर्णन

श्रीमद्भागवतम में कलियुग का वर्णन:- कलियुग के प्रबल प्रभाव से धर्म, सत्य, पवित्रता, क्षमा, दया, आयु, शारीरिक बल तथा स्मरणशक्ति दिन प्रतिदिन क्षीण होते जायेंगे। (श्रीमद्भागवतम.१२.२.१) एकमात्र संपत्ति को ही मनुष्य के उत्तम जन्म, उचित व्यवहार तथा उत्तम गुणों का लक्षण...

read more

गणेशजी करेंगें हर समस्या का अंत

गणेशजी करेंगें हर समस्या का अंत आसान से वास्तु उपाय, सफलता दिलाए भाग्य को चमकाएं, वास्तु के टिप्स आजमाएं यदि आपके घर का बजट गड़बड़ा गया हो, आप से ज्यादा खर्च होता है, परिवार में अशांति रहती है, नोट कमाने के सारे प्रयास व्यर्थ साबित हो रहे हों , तो भगवान को खुश करने के...

read more

शनि ग्रह की शान्ति के उपाय – Remedies for Saturn

शनि ग्रह की शान्ति के उपाय - Remedies for Saturn सभी ग्रहों में शनि को सबसे अधिक कष्ट देने वाला ग्रह कहा गया है. जब गोचर में शनि किसी व्यक्ति के लिये शुभ न चल रहे हों या फिर शनि की साढेसाती चल रही हों या फिर शनि की ढैय्या में भी ये उपाय किये जा सकते है (remedies for...

read more

केमद्रुम योग

केमद्रुम योग - योग Kemadruma होता जितना कि वर्तमान समय के ज्योतिषियों ने इसे बना दिया है। व्यक्ति को इससे भयभीत नहीं होना चाहिए क्योंकि यह योग व्यक्ति को सदैव बुरे प्रभाव नहीं देता अपितु वह व्यक्ति को जीवन में संघर्ष से जूझने की क्षमता एवं ताकत देता है, जिसे अपनाकर...

read more

कुंडली में सरकारी नौकरी के योग

कुंडली में सरकारी नौकरी के योग व्यक्ति के जीवन में हो रहीं, छोटी या बड़ी हर प्रकार की घटनाओं के लिए कुंडली के ग्रहों का बहुत बड़ा हाथ होता है। कुंडली में जिस प्रकार का ग्रह शक्तिशाली होता है उसी प्रकार के परिणाम भी व्यक्ति को प्राप्त होते हैं। कई बार ऐसा होता है कि...

read more

ब्राह्मणों की वंशावली

ब्राह्मणों की वंशावली सभी ब्राह्मण बंधुओ को #मेरा #नमस्कार बहुत #दुर्लभ #जारी है जरूर पढ़े। और #समाज में #शेयर करे #हम क्या है #भविष्य #पुराण के अनुसार ब्राह्मणों का #इतिहास है की #प्राचीन#काल में #महर्षि कश्यप के पुत्र कण्वय की आर्यावनी नाम की #देव #कन्या #पत्नी हुई।...

read more

गाय से जुड़ी कुछ रोचक जानकारी

गाय से जुड़ी कुछ रोचक जानकारी 1. गौ माता जिस जगह खड़ी रहकर आनंदपूर्वक चैन की सांस लेती है । वहां वास्तु दोष समाप्त हो जाते हैं । 2. गौ माता में तैंतीस कोटी देवी देवताओं का वास है । 3. जिस जगह गौ माता खुशी से रभांने लगे उस देवी देवता पुष्प वर्षा करते हैं । 4. गौ माता के...

read more

दुकान या शो रूम का वास्तु

दुकान या शो रूम का वास्तु वर्तमान युग में करोड़ो लोग व्यापार को अपनी आजीविका बनाये हुए है।वह चाहे दुकान हो या शो रूम चाहे किराने का, दवा का, स्टेश्नरी का, गिफ्ट शाप, कपड़े का, सोने चाँदी का, टेलरिंग का,ऑटो पार्ट्स का, मोबाईल का, इलेक्ट्रॉनिक्स का, पेंट्स का, हार्डवेयर...

read more

केमद्रुम योग

केमद्रुम योग वैदिक ज्योतिष के अनुसार कुंडली में बनने वाले विभिन्न प्रकार के अशुभ योगों में से केमद्रुम योग को बहुत अशुभ माना जाता है। केमद्रुम योग की प्रचलित परिभाषा के अनुसार किसी कुंडली में यदि किसी कुंडली में चन्द्रमा के अगले और पिछले दोनों ही घरों में कोई ग्रह न...

read more

गोमती चक्र अनुभूत प्रयोग

गोमती चक्र अनुभूत प्रयोग || 1. सात गोमती चक्रों को शुक्ल पक्ष के प्रथम अथवा दीपावली पर लाल वस्त्र में अभिमंत्रित कर पोटली बना कर धन स्थान पर रखें । 2. यदि आपको अचानक आर्थिक हानि होती हो, तो किसी भी मास के प्रथम सोमवार को २१ अभिमन्त्रित गोमती चक्रों को पीले अथवा लाल...

read more

सूर्योदयास्त साधन

सूर्योदयास्त साधन :- पहले अयनांश ज्ञात करेंगे इस के लिए “विश्व सायन लग्न सारिणी “ का उपयोग करेंगे इस में अयनांश साधन सारिणी भाग-१ में प्रत्येक माह की एक तारीख के अयनांश दिए है इस से माह की एक तारीख के अयनांश लेकर उस में सारिणी भाग-२ से अभीष्ट तारीख का विकलात्मक मान...

read more
X